शनिवार, 4 अप्रैल 2015

संता पे किरपा करो

संता पे किरपा करो,
       प्यारा पवन कुमार ।
साँसा सो बरसां चले ,
       सुमिरे यो संसार ॥

कवि अमृत  'वाणी'