शुक्रवार, 12 फ़रवरी 2010

मिटटी का फैंसला


लाल कोठी पर
लगी संगमरमर की फर्श
फर्श पर चांदी का सिंहासन
जिस पर बैठा
कबर में पैर लटकाए
बुड्डा कुबेर
कांपते हुए हाथों से
थामी हुई
सोने की थाली
सोने की कटोरियों में
चांदी के चम्मच
डूबे हुए मूंग की दाल के हलवे में
और पास में
काजू बादाम वाले
दूध का गिलास लेकर
खड़ी है शालियाँ

जीवन के नंदन वन में
जिनकी जिंदगी गुजरती
युधिष्ठर के रथ की तरहां
यथार्थ के धरातल से
इतने उपर
सातवे आसमान पर
कि उनसे
छोटे-बड़े इंसान तो क्या
हिमालय भी नहीं टकरा सकता

मगर, आश्चर्य ,
जो कभी धरती पर नहीं चले
जिनके जूतों पर कभी
धूल तक नहीं जम सकी
उनके पेट में पथरी जम गई


बरबाद हो गए
ईलाज में इस तरहां
जो धरती के उपर चलते थे
युधिष्ठर के रथ की तरहां
वे आजकल
बड़ी तेजी से
धरती के अंदर उतरते जा रहे हैं
सीता की तरहां


मगर
जो झोंपड़ियों में
जन्म लेकर
पीढ़ियों तक
मिट्टी से
उपजाते रहे सोना
वही खरा सोना
हर बार बिकता रहा
उन्हीं महलों की देहलीज पर
सिर्फ
सिर्फ
पुराने कर्ज के ब्याज के बदले
या चंद सिक्कों में


फिर मजबूर होकर
बेबस मजदूर की तरह
लगते रहे
वहीं हरा
सोना उपजाने में

जो हर सर्दी में पीते रहे
मिट्टी की मटकी का पानी
खाते रहे
हण्डिया की सब्जी
मिट्टी के तवे की रोटी
जिसमें मेहमान की तरहां
अक्सर मिलती रही मिटृी

कितना बड़ा आश्चर्य
जो पुरूषार्थ की पाचन-शक्ति से
पहाड़ों को पचा जातें
उनके पेट में कभी मिटृी नहीं जमती
और जिनके जूतों पर
कभी मिटृी नहीं जमीं
कैसे
उनके पेट में पथरी जम जाती

सब कुछ
मिटृी का ही फैंसला है
कि
किसकी
किस तरहां मिटृी पलीत करनी है
और कहां
किस मिटृी से
कैसा
शानदार महल बनाना है।


3 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत आभार.

महाशिवरात्री की आपको बहुत शुभकामनाएँ.

RaniVishal ने कहा…

Bahut hi achhi rachana...Aabhar!!
Aapka mere blog par hardik abhinandan

Mahashivratri ki shubhkamnaae!!
http://kavyamanjusha.blogspot.com/

संगीता पुरी ने कहा…

बहुत अच्‍छी रचना है !!