बुधवार, 10 फ़रवरी 2010

मेरी वेब साईट मेरे निजी ख्यालों का



मेरी वेब साईट मेरे निजी ख्यालों का यानि कि जिंदगी से जुड़े हुए रूहानी नजरियों का वो कागजी पुलिंदा है जो ठसाठस भरे हुए बैंक लोकर्स से भी लाखों गुना ज्यादा अपनी जाईन्दा औलादों की तरहां बेहद अजीज है।

अमृतवाणी



कोई टिप्पणी नहीं: