मंगलवार, 2 फ़रवरी 2010

रोटी का टुकड़ा

सौ मंजिल ऊँची ईमारत के
सुनहरी झरोखे से
गोरे हाथों ने फेंका
एक सूखी रोटी का टुकड़ा
जो गिरा
सीधा एक भिखारी के कटोरे में
और झटके से बंद कर दिए
सतरंगी चूडियों ने
कांच के किंवाड़
भिखारी चला गया
किन्तु मैं अभी तक वहीं खड़ा हूँ
तभी से सोच रहा हूँ
रोटी कितनी बड़ी
इंसान कितना छोटा है |