मंगलवार, 26 जनवरी 2010

वह भी हारा


वह
भी हारा
जो अंतिम स्वांस तक
लड़ता - लड़ता दुश्मनों से हारा

उससे ज्यादा वह हारा
जिसने दुश्मनों के सामने
डाल दिए हथियार
और उठा लिए अपने हाथ उपर

उससे ज्यादा तो वे हारे
जिन्होंने हथियार ही नहीं उठाए
किन्तु सबसे ज्यादा तो वे हारे
जो अपने आपसे हारे

हारते हारते
एक दिन वे बन जाते
इतने बेबस , मजबूर , मायूस , लाचार ,
और बीमार


की
खूद्बखूद्ब को समझ कर इतने बेकार
अंत में हो जाते आत्महत्यारे |










अमृत 'वाणी'

कोई टिप्पणी नहीं: