शुक्रवार, 22 जनवरी 2010

काला धुँआ


मुझे दिख रहा
तुम्हारा चेहरा धुन्धला
और
तुम्हें मेरा
क्योंकि दोनों के बीच में
भौतिकता का
काला धुँआ |

2 टिप्‍पणियां:

RaniVishal ने कहा…

Bahut Khub kaha aapne..

Umeed hai shyad aapko mera blog bhi pasand aae.

http://kavyamanjusha.blogspot.com/

Prem Pradeep ने कहा…

bahut acchha likha hai.
mai bhi likhne ki koshish kar raha hu. my blog addres
http://kavichhavi.blogspot.com